------------------------------------------------------------------- दिल्ली का रेड लाइट एरिया: सेक्स वर्कर का जीवन एक छोटे से कमरे में होता है - Shiva Technical
You are here
Home > Uncategorized >

दिल्ली का रेड लाइट एरिया: सेक्स वर्कर का जीवन एक छोटे से कमरे में होता है

gb road delhi rate list

gb road delhi rate listरात 8 बजे के बाद G B Road का माहौल बदल जाता है. कोठे पर आने वालों की संख्या बढ़नी शुरू हो जाती है. अकेले आने वाले शख्स को जेबकतरे लूट लेते हैं.

दिल्ली की जीबी रोड (जीबी रोड) का पूरा नाम कस्टमस्टीन बैशन रोड है, जहां 100 साल पुरानी इमारतें हैं। हर जगह दलालों के जाल में न पड़ने और जेबकतरों और गुंडों से सावधान रहने की चेतावनी लिखी गई है। यह दिल्ली (दिल्ली) की एक सड़क है, जिसका नाम सुनते ही लोगों की भौंहें तन जाती हैं और वे दबी जुबान में कानाफूसी करने लगते हैं।

जब मैंने पहली बार स्कूल में इसके बारे में सुना था, तो यह उत्सुक था कि यह सड़क कैसी होगी? अक्सर फिल्मों में देखा जाता है, कोठा गायब था। मुझे सेक्स वर्कर्स की याद आती है जो पुरुषों को बहकाती हैं, वेश्यालय की मालकिन जो जिस्म का बाज़ार चलाती हैं और न जाने क्या-क्या। वही कातिल मुझे इतने सालों के बाद जीबी (रोड रोड) खींच कर लाया।

इन 7 वजहों से मां नहीं बन पाती कुछ महिलाएं

बीते रविवार सुबह आठ बजे जब मैं जी.बी.रोड (GB Road) पहुंची, तो यह सड़क दिल्ली की अन्य सड़कों की तरह आम ही लगी. सड़क के दोनों ओर दुकानों के शटर लगे हुए थे. इन दुकानों के बीच से ही सीढ़ी ऊपर की ओर जाती हैं और सीढ़ियों की दीवारों पर लिखे नंबर कोठे की पहचान कराते हैं. कुछ लोग सड़कों पर ही चहलकदमी कर रहे हैं और हमें हैरानी भरी नजरों से घूर रहे हैं. हमने तय किया कि कोठा नंबर 60 में चला जाए.

महिलाओं का खतना के बारे में जानिए सबकुछ, कैसे और क्यों किया जाता है ये दर्दभरा Khatna

मैं एक एनजीओ में काम करने वाले एक दोस्त के साथ सीढ़ियों पर चढ़ गया, मैं ऊपर पहुंचा, चारों तरफ सन्नाटा था। शायद सब लोग सो रहे थे, आवाज दी, तो पता चला कि सब लोग सो रहे हैं, फिर एक व्यक्ति हमें घूर कर देख रहा था। बहुत मनाने के बाद, वह यह बताने के लिए सहमत हो गया कि वह राजू (बदला हुआ नाम) है, जो पिछले नौ वर्षों से यहाँ रह रहा है और लड़कियों की दर तय करता है।

Sperm एलर्जी क्या है? जानिए इसके बारे में सबकुछ

gb road delhi rate list
gb road delhi rate list

पहचान उजागर न करने की शर्त के साथ राजू ने एक सेक्स वर्कर सुष्मिता (बदला हुआ नाम) से हमारी मुलाकात कराई, जिसे जगाकर उठाया गया था. मैं सुष्मिता से अकेले में बात करना चाहती थी, लेकिन राजू को शायद डर था कि कहीं वह कुछ ऐसा बता न दे, जो उसे बताने से मना किया गया है. gb road delhi rate list

सुष्मिता की उम्र 23 साल है और उसे तीन साल पहले नौकरी का झांसा देकर पश्चिम बंगाल से दिल्ली लाकर यहां बेच दिया गया था. सुष्मिता ठीक से हिंदी नहीं बोल पाती, वह कहती है, “मैं पश्चिम बंगाल से हूं, मेरा परिवार बहुत गरीब है. एक पड़ोसी का हमारे घर आना-जाना था. उसने कहा, दिल्ली चलो. वहां बहुत नौकरियां हैं तो उसके साथ दिल्ली आ गई. एक दिन तो मुझे किसी कमरे में रखा और अगले दिन यहां ले आया.”

क्या है धारा-377? जानिए क्यों मचा रखा है भारत में LGBTQ ने हंगामा

यह पूछने पर कि क्या वह अपने घर लौटना नहीं चाहती है? काफी देर चुप रहकर वह कहती है, “नहीं. घर नहीं जा सकती. बहुत मजबूरियां हैं. यहां खाने को मिलता है, कुछ पैसे भी मिल जाते हैं, जो छिपाकर रखने पड़ते हैं.”

सुष्मिता बीच में ही कहती है, “किसी को बताना मत…” इससे आगे कुछ पूछने की हिम्मत ही नहीं हुई. सुष्मिता है तो 23 की, लेकिन उसका शरीर देखकर लगता है कि जैसे 15 या 16 की होगी, दुबली-पतली कुपोषित लगती है. 

इमारत की पहली और दूसरी मंजिल पर जिस्मफरोशी का धंधा चलता है. इच्छा हुई कि इन कमरों के अंदर देखा जाए कि यहां कैसे रहते हैं? अंदर घुसी कि एक अजीब सी गंध ने नाक ढकने को मजबूर कर दिया. इतने छोटे और नमीयुक्त कमरे हैं, सोचती रही कि कोई यहां कैसे रह सकता है. 

Male Birth Control: कंडोम ही नहीं इन 4 तरीकों से पुरुष भी रोक सकते हैं अनचाही प्रेग्नेंसी

gb road delhi rate list
gb road delhi rate list

राजू बताता है कि एक कोठे में 13 से 14 सेक्स वर्कर हैं और सभी अपनी मर्जी से धंधा करती हैं लेकिन गीता (बदला हुआ नाम) की बात सुनकर लगा कि ये मर्जी में नहीं मजबूरी में धंधा करती हैं. गीता कहती है, “जैसे आप नौकरी करके पैसे कमाती हो. वैसे ही ये हमारी नौकरी है. आप बताइए, हमारी क्या समाज में इज्जत है, कौन हमें नौकरी देगा. जिस्म बेचकर ही हम अपना घर चला रहे हैं. बेटी को पढ़ा रही हूं, ये छोड़ दूंगी तो बेटी का क्या होगा.”

गीता कहती है कि वो एक साल में तीन कोठे बदल चुकी है. वजह पूछने पर कहती है, “पैसे अच्छे नहीं मिलेंगे तो कोठा तो बदलना पड़ेगा ना.” गीता की ही दोस्त रेशमा (बदला हुआ नाम) कहती है, “हम जैसे हैं, खुश हैं. सरकार हमारे लिए क्या कर रही है. हमारे पास ना राशन कार्ड है, ना वोटर कार्ड ना आधार. हमारे पास कोई वोट मांगने भी नहीं आता. सरकार ने हमारे लिए क्या किया. कुछ नहीं.”

तीन शादियां और 4 अफेयर्स, जानिए Imran Khan की पूरी LOVE लाइफ

जेहन में ढेरों सवाल लेकर एक और कोठे पर गई, जहां 15 से लेकर 19 साल की कई सेक्स वर्कर मिली, जो शायद रातभर की थकान के बाद देर सुबह तक सो रही हैं. 

इसके बारे में राजू कहते हैं, “रात आठ बजे के बाद यहां का माहौल बदल जाता है. कोठे पर आने वालों की संख्या बढ़नी शुरू हो जाती है. अकेले आने वाले शख्स को जेबकतरे लूट लेते हैं, चाकूबाजी की भी कई वारदातें हुई हैं.”

यहां आकर लगता है कि एक शहर के अंदर कोई और शहर है. जिस्मफरोशी के लिए यहां लाई गई या यहां खुद अपनी मर्जी से पहुंचीं औरतों की जिंदगी दोजख से कम कतई नहीं है. अपने साथ कई सवालों के जवाब लिए बिना वापस जा रही हूं, इस उम्मीद में कि जल्द लौटकर जवाब बटोर लूंगी.gb road delhi rate list

High Quality Backlinks कैसे बनाया जाता है | हिंन्दी में सीखे

32 thoughts on “दिल्ली का रेड लाइट एरिया: सेक्स वर्कर का जीवन एक छोटे से कमरे में होता है

  1. It’s the best time to make some plans for the future and
    it is time to be happy. I’ve read this post and if
    I could I want to suggest you few interesting things or tips.
    Perhaps you can write next articles referring to this article.
    I desire to read more things about it!

  2. Wonderful post however , I was wanting to know if you could write a litte
    more on this topic? I’d be very grateful if you
    could elaborate a little bit further. Thank you!

  3. I blog quite often and I truly appreciate your content. The article has
    really peaked my interest. I am going to book
    mark your blog and keep checking for new details
    about once per week. I opted in for your RSS feed too.

  4. Hey! I know this is kinda off topic but I was wondering if you
    knew where I could locate a captcha plugin for my comment form?
    I’m using the same blog platform as yours and I’m having difficulty finding one?
    Thanks a lot!

  5. It’s appropriate time to make some plans for the future and it’s time to be happy.
    I have read this post and if I could I wish to suggest you some interesting
    things or advice. Maybe you could write next articles
    referring to this article. I wish to read more things about it!

  6. Hey there! Quick question that’s entirely off topic. Do you
    know how to make your site mobile friendly? My weblog looks weird when browsing
    from my iphone4. I’m trying to find a theme or plugin that
    might be able to resolve this problem. If you have any recommendations, please share.
    With thanks!

Leave a Reply

Top